Tuesday , 1 December 2020

कोरोना एक्टिव केस में बढ़ोतरी से टेंशन में जिला प्रशासन, ऑक्सीजन की सभी 5 कंपनियों का कंट्रोल अपने हाथ में लिया

जोधपुर . राजस्थान (Rajasthan) में जयपुर (jaipur) और कोटा के बाद जोधपुर में सबसे ज्यादा 1984 कोरोना (Corona virus) के एक्टिव केस हो गये हैं. अस्पतालों में ऑक्सीजन की खपत भी छह गुना (guna) से अधिक हो गई और इसी के चलते प्रशासन ने जोधपुर की सभी पांच गैस कंपनियों का किया अधिग्रहण करते हुए सप्लाई पर नियंत्रण रीको को सौंप दिया है. शहर के सभी प्रमुख अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी के बाद जिला कलेक्टर (Collector) ने शहर में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाली पांचों फर्मों का अधिग्रहण कर लिया. इनके तमाम संसाधन अधिग्रहित कर प्रबंधन रीको को सौंप दिया गया है. अब सिर्फ अस्पतालों को ही ऑक्सीजन सिलेंडर प्राथमिकता से दिए जाएंगे.

जानकारी के मुताबिक एम्स और एमजीएच में ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत 6 से 7 गुना (guna) बढ़ चुकी है. जहां पहले दोनों अस्पतालों में रोजाना 200 सिलेंडर से काम चल जाता था, अब 1300 सिलेंडरों की आवश्यकता है. अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाली सभी फर्म के अतिरिक्त ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराने में असमर्थता के बाद हरकत में आए जिला प्रशासन ने गुलजग इंडस्ट्रीज, बासनी की मानेश्वर ट्रेडर्स, बोरानाडा की जोधपुर गैसेज, जोधपुर एयर व महाकालेश्वर ट्रेडर्स का अधिग्रहण किया है. ये सभी फर्म अहमदाबाद (Ahmedabad) से लिक्विड ऑक्सीजन के टैंकर मंगा कर यहां ऑक्सीजन को सिलेंडरों में भरने का काम करती है. अहमदाबाद (Ahmedabad) की फर्म ने इन कंपनियों को पहले से तय एग्रीमेंट से अतिरिक्त गैस देने से मना कर दिया है. अधिग्रहण के बाद प्राथमिकता के साथ सिलेंडर अस्पतालों में भेजे जाएंगे. ताकि अस्पतालों में किसी प्रकार का संकट खड़ा न हो.