Saturday , 16 January 2021

हरकी पौड़ी पर श्रद्धालुओं ने किया गंगा में स्नान


हरिद्वार (Haridwar) . कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर्व स्थागित के बाद भी हरकी पैड़ी सहित विभिन्न घाटों पर स्थानीय श्रद्धालुओं ने स्नान का पुण्य अर्जित किया. जबकि कोविड-19 (Covid-19) को देखते हुए शासन-प्रशासन की ओर से स्नान पर्व केे स्थगित की जानकारी देते हुए हाईवे सहित जनपद की सीमाओं पर फ्लैक्स लगाये गये थे. स्नान से एक दिन पूर्व तक तीर्थनगरी पहुंचे बाहरी श्रद्धालुओं ने भी गंगा में डूबकी लगाई. जबकि स्नान पर्व पर सीमाओं पर तैनात पुलिस (Police) बल ने बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को प्रवेश की अनुमति नहीं दी. और उनको वापस उनके गतंव्यों की ओर भेज दिया.

बताते चले कि कोविड-19 (Covid-19) को फैलने से रोकने के लिए शासन की ओर से कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर्व स्थागित करने का निर्णय लिया गया. जिसकी प्रशासन स्तर पर घोषणा करते हुए हरिद्वार (Haridwar) नगरी में श्रद्धालुओं के आगमन को रोकने के लिए हाईवे सहित जनपद की सीमाओं पर फ्लैक्स लगाकर लोगों को जानकारी दी गयी. लेकिन शासन-प्रशासन के कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर्व के स्थगित की घोषणा के बाद भी तीर्थनगरी में एक दिन पूर्व पहुंचे श्रद्धालुओं ने हरकी पैड़ी पर स्नान कर पुण्य अर्जित किया. पुलिस (Police) प्रशासन द्वारा अपनी तरफ से बाहरी श्रद्धालुओं को हरकी पैड़ी तक ना पहुंचे इसके लिए अपनी पूरी तैयारी की गयी थी.

बताया जा रहा है कि पुलिस (Police) ने हरकी पौडी तक श्रद्धालु स्नान के लिए न पहुंचे, इसके लिए पोस्ट ऑफिस तिराहे पर बैरिकेट लगाकर प्रवेश पर प्रतिबंध किया गया था. जहां से श्रद्धालुओं को वापस पुराने रजिस्ट्री तिराहे से ललतारो पुल के जरिये रोेड़ीबेलवाला की ओर भेजा गया. इतना ही नहीं पुलिस (Police) ने पोस्ट ऑफिस तिराहे से व्यापारियों को भी दोपाहिया वाहन के द्वारा अपने-अपने प्रतिष्ठान जाने से रोका गया. जिससे व्यापारियों में रोष फैल गया. इस जानकारी पर व्यापारी नेता संजय त्रिवाल कुछ व्यापारियों के साथ मौके पर पहुंचे.

जिन्होंने व्यापारियों को रोकने का विरोध करते हुए नगर मजिस्टेªट सहित कोतवाली नगर प्रभारी निरीक्षक अमरजीत सिंह से वार्ता कर व्यापारियों के लिए मार्ग को खुलवाया गया. बताया जा रहा है कि शासन-प्रशासन द्वारा कार्तिक पूर्णिमा स्नान स्थगित करने के फैसले का व्यापार मण्डल, श्रीगंगा सभा सहित संतों ने अपना विरोध करते हुए शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को अवगत कराया था. जिस पर शहरी विकास मंत्री ने स्थानीय लोगों को कार्तिका पूूर्णिमा स्नान पर्व स्थगित फैसले से अलग करते हुए सोशल डिस्टेसिंग व मास्क के साथ गंगा में स्नान करने की अनुमति दी थी. कार्तिका पूर्णिमा स्नान पर्व पर स्थानीय लोगों ने हरकी पैड़ी सहित शहर के विभिन्न गंगा घाटों पर स्नान किया.

Please share this news