Wednesday , 23 June 2021

19 साल बाद मंगल-राहू की युति से मौसम में बदलाव, प्राकृतिक आपदा के भारी संकेत

मंगल और शुक्र का हाल ही में हुआ राशि परिवर्तन मिश्रित फलदायी रहेगा. मौसम में यकायक आ रहे परिवर्तन से मंगल का चंद्रमा की राशि वृषभ में और शुक्र का शनि की राशि कुंभ में विराजमान होना है. इससे देशभर में प्राकृतिक आपदाएं हो सकती हैं, लेकिन कोई बड़ी जनहानि के संकेत नहीं हैं.

चूंकि गुरु शनि की मकर राशि में रहते हुए संतुलन बनाए हुए हैं, लेकिन राहू पहले से वृषभ राशि में हैं, जिससे मंगल की युति होने के कारण अंगारक योग भी बन रहा है. यह योग अग्नि दुर्घटनाएं करा सकता है. बावजूद इसके बुध अच्छी स्थिति में है, तो फसलों को अधिक हानि नहीं होगी. यह योग 19 वर्ष बाद बना है. यह योग 13 अप्रैल तक प्रभावी रहेगा.

इधर, शुक्र ने मकर से कुंभ राशि में प्रवेश किया है. कुंभ शनि के अाधिपत्य वाली राशि है. शुक्र सुखद परिणाम देगा, वहीं मंगल की राहु के साथ युति मौसम में यकायक परिवर्तन और कुछ प्रदेशों में प्राकृतिक आपदाओं का कारण बनेगी. शुक्र रसेश और मंगल अग्नि तत्व प्रधान ग्रह है, जबकि राहू विभिन्न कार्यों में सफलतादायी तो होता है, लेकिन आकस्मिक दुर्घटनाएं भी इसके कुप्रभाव से होती है. गुरु, शनि व बुध के अच्छी स्थिति में होने से व्यापारिक मंदी में तेजी आएगी, युवाओं व महिलाओं को परीक्षा में सफलता मिलेगी.

Please share this news