Wednesday , 23 June 2021

फर्जी कागजात से बेच दिया सरकारी जमीन पर प्लॉटचार सौ बीसी का मामला दर्ज

भोपाल (Bhopal) . राजधानी के सूखीसेवनिया थाना इलाके के मुगालिया कोट गांव में सरकारी जमीन पर प्लॅट बेचने का मामला सामने आया है. पुलिस (Police) के अनुसार रमाकांत नाम का व्यक्ति प्राइवेट काम करता है. उसे एक प्लॉट खरीदना था.

साल 2017 में रमाकांत से विपिन शर्मा, पूरणलाल और वीरेंद्र नाम के युवक मिले और तीनों से मुगालिया कोट गांव में सस्ते दर पर प्लॉट देने का झांसा दिया. फरियादी ने उनसे अनुबंध किया और पैसे आरोपियों को दे दिए. इसके बाद आरोपियों ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर सरकारी जमीन पर प्लॉट काटकर फरियादी को रजिस्ट्री करा दी. इतना ही नहीं शातिर जालसाजो ने कुछ और लोगों को भी प्लॉट बेचे हैं. फरियादी रजिस्ट्री कराने के कुछ माह बाद जब मौके पर प्लॉट का कब्जा लेने पहुंचा और नामांतरण कराना चाहा तब जाकर खुलासा हुआ कि जो प्लॉट उसे बेचा गया है, वह तो सरकारी जमीन है. इसके बाद पीडीत ने सूखीसेवनिया थाने में शिकायत की थी. शिकायत की जांच के बाद पुलिस (Police) ने धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर लिया है. इधर एमपी नगर थाना क्षेत्र में एक व्यक्ति को एक कार्यालय में खाने का टेंडर दिलाने के नाम पर एक लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया है.

पुलिस (Police) के अनुसार संजय मेहरा केटरिंग का संचालन करते हैं. उन्होंने पुलिस (Police) को बताया कि एक कार्यालय में खाने के लिए टेंडर निकला था. उक्त टेंडर दिलाने के लिए बन्नालाल नाम का व्यक्ति मिला और उन्हें टेंडर दिलाने का झांसा दिया. टेंडर के दस्तावेज बनाने और उसे पास कराने के नाम पर कुछ पैसों की जरूरत बताई. फरियादी संजय आरोपी बन्नालाल के झांसे में आ गया, इसके बाद फरियादी ने आरोपी ने धोखाधड़ी कर करीब एक लाख रुपए अपने खाते में जमा करा लिए. बाद मे जब फरियादी को टेंडर नहीं मिला तो उसने पड़ताल की, तब खुलासा हुआ कि टेंडर के लिए जमा होने वाली रकम ठग ने अपने खाते में जमा कर ली थी. पुलिस (Police) ने धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है.

Please share this news