Friday , 25 September 2020

बर्मन ने कहा, डाबर ऑनलाइन बिक्री माध्यमों को लक्ष्य करके आगे बढ़ रही

नई दिल्ली (New Delhi) . डाबर इंडिया के चेयरमैन अमित बर्मन ने कहा कि कोरोना संक्रमण से लोगों के बीच मांग की प्राथमिकता बदली है. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उत्पादों के उपभोक्ता बढ़े हैं और उनकी कंपनी इस रुख के अनुरूप काम करने के लिए पहले से मजबूत स्थिति में है.कंपनी की 45वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए बर्मन ने कहा कि 136 साल पुरानी डाबर अपने नौ ‘पावर ब्रांड’ पर और ध्यान देगी. साथ ही नवोन्मेष पर आधारित यात्रा को जारी रखेगी ताकि, महामारी (Epidemic) के असर को कम से कम किया जा सके. कंपनी भविष्य के लिए और मजबूती से उभरकर सामने आएगी.

उन्होंने कहा कि इसके अलावा डाबर ऑनलाइन बिक्री माध्यमों को लक्ष्य करके आगे बढ़ रही है. लॉकडाउन (Lockdown) के बाद कंपनी इस क्षेत्र में मजबूत खिलाड़ी बनकर उभरी है, आने वाले समय में कंपनी की योजना ई-वाणिज्य मंचों के लिए विशेष उत्पाद पेश करने की है. बर्मन ने कहा,यह डाबर के लिए एक बड़ा अवसर है. यह हमारे हर घर के स्वास्थ्य में हिस्सेदार बनने के लक्ष्य के अनुरूप है.कंपनी ने हाल ही में 50 से अधिक नए उत्पाद पेश किए हैं,इसमें से अधिकतर लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान या उसके बाद बाजार में उतारे हैं. उन्होंने कहा, संकट के काल को कभी भी छोड़ना नहीं चाहिए. इस संकट ने ग्राहकों के खरीदारी व्यवहार को बदला है और अधिकतर ग्राहक ऑनलाइन खरीद की ओर मुड़े हैं.इस मौके को देखकर कंपनी ने सिर्फ ऑनलाइन बाजार के लिए विशेष उत्पादों की एक श्रृंखला पेश करना शुरू किया है.डाबर ने हाल में ‘डाबर एपल साइडर विनेगर’ (सेब का सिरका) और डाबर बेबी केयर (शिशु देखभाल) श्रृंखला के उत्पाद पेश किए हैं. बर्मन ने कहा कि इसतरह ही और नए उत्पाद पेश होते रहने वाले है. डाबर के नौ पावर ब्रांड उसका च्यवनप्राश, शहद, लाल तेल, पुदीन हरा, हनीटस, आंवला तेल, लाल पेस्ट, वाटिका और रीयल जूस हैं.