Thursday , 13 May 2021

विंध्‍य प्रदेश की मांग उठना रास नहीं आया भाजपा को

भोपाल (Bhopal) . भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी ने मध्य प्रदेश के बंटवारे की मांग उठाते हुए कहा कि अलग से विंध्य प्रदेश होना चाहिए. इसी पर प्रदेशाध्यक्ष व सांसद (Member of parliament) वीडी शर्मा ने मैहर के विधायक को सफाई देने के लिए तलब कर लिया है.

यह समाचार News पर पूरे विस्‍तार से पढ़ें

sharma-tirpathi

शर्मा ने शनिवार (Saturday) को आधे घंटे तक त्रिपाठी से इस मसले पर बात की. शर्मा ने उनसे दो टूक पूछा, बगैर मंजूरी के यह डिमांड कैसे उठा ली? हालांकि, अकेले में तो उन्होंने दोबारा ऐसा न करने का आश्वासन दे दिया. पर बैठक के बाद बाहर आने पर पत्रकारों से बोले- यह सबकी मांग है, सिर्फ मेरी अकेले की नहीं. मैं मुख्यमंत्री (Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान को इस संदर्भ में खत लिखूंगा.

जानकारी के मुताबिक, सख्त लहजे में त्रिपाठी से पूछा गया था : नीलबड़ में अलग विंध्य प्रदेश की मांग से संबंधित प्रोग्राम कैसे हुआ? किसकी मंजूरी ली गई थी? यह तो पार्टी लाइन में नहीं है. अगर आपको कोई बात करनी है, तब पार्टी के मंच/फोरम पर आकर साझा करें.

यह भी पढ़ें : पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा को NCPCR ने दिया नोटिस

हालांकि, त्रिपाठी ने मीडिया (Media) को इस बैठक के बाद बताया- पार्टी अध्यक्ष से विंध्य प्रदेश अलग बनाने को लेकर चर्चा नहीं हुआ. हां, और मुद्दों पर बात हुई. मगर जहां तक बात विंध्य प्रदेश की है, तब यह कई लोगों की मांग है. किसी एक की नहीं. मैं इस बारे में पार्टी को नहीं बता पाया हूं. सब को खत लिख चुका हूं और अब मुख्यमंत्री (Chief Minister) को भी लिखूंगा.

नारायण त्रिपाठी का विवादों से गहरा नाता है. वे पहले भी विवादों में रह चुके हैं. 15 साल में पांच दल बदल चुके हैं. 2003 में अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी में थे. फिर वहां से 2013 में कांग्रेस जा पहुंचे. आम चुनाव से पहले उन्होंने कांग्रेस को झटका दे दिया था और BJP में आ गए थे.


News 2021

Please share this news