Thursday , 15 April 2021

एम्स के निदेशक का दावा कुछ ही दिनों में भारत को मिलेगी कोरोना वैक्सीन

नई दिल्ली (New Delhi) . भारत में आ चुके कोरोना (Corona virus)  के नए स्ट्रेन के बीच, एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को ब्रिटेन में उपयोग करने के लिए अनुमोदित किया जाना एक बड़ा कदम था और भारत भी इससे ज्यादा दिन दूर नहीं. गुलेरिया ने एक साक्षात्कार में कहा यह बहुत अच्छी खबर है कि को ब्रिटेन के नियामक अधिकारियों द्वारा अपने टीके के लिए मंजूरी मिल गई है. उनके पास मजबूत आंकड़े हैं और भारत में वही टीका सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा विकसित किया जा रहा है. यह न केवल भारत के लिए बल्कि दुनिया के कई हिस्सों के लिए एक बड़ा कदम है उन्होंने कहा “यह टीका दो से आठ डिग्री सेंटीग्रेड पर संग्रहीत किया जा सकता है. इसलिए स्टोर करना और ट्रांसपोर्ट करना आसान होगा. फाइजर वैक्सीन में जो माइनस 70 डिग्री सेंटीग्रेड का तापमान आवश्यक है, उसके बजाय इसे एक साधारण फ्रिज का उपयोग करके स्टोर किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि “हम अपने सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम के हिस्से के रूप में बच्चों और गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण करते हैं. टीके को 2 से 8 डिग्री सेंटीग्रेड पर स्टोर करने के लिए एक ही मंच के उपयोग से हमारे लिए कोविड -19 वैक्सीन को स्टोर करना आसान होगा.

उन्होंने कहा “अब, हमारे पास एक डेटा है, और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को यूके, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में अध्ययन के आधार पर अप्रूव किया गया है का डेटा भी है. मुझे लगता है, एक बार नियामक प्राधिकरण को डेटा दिखाए जाने के बाद, हमें कुछ दिनों के भीतर काउंटी में वैक्सीन के लिए मंजूरी मिलनी चाहिए. मैं हफ़्ते या महीनों के बजाय कुछ दिन कहूंगा.

Please share this news