Thursday , 15 April 2021

तेजाराम को फर्जी मुलजिम बनाने पर दोषी अधिकारियों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज हो

उदयपुर (Udaipur). प्रदेश के बहुचर्चित एनडीपीएस में फर्जी मुलजिम बनाने वाले तेजाराम प्रकरण एफआईआर (First Information Report) संख्या – 69/2019 में उदयपुर (Udaipur) पुलिस (Police) के भ्रष्ट अधिकारियों ने आपसी रंजिश में एक निर्दोष किसान तेजाराम देवासी को मुलजिम बनाकर करीब 4 माह तक जेल में डाल दिया गया. तेजाराम संघर्ष समिति व शिव सेना मेवाड़ संभाग के आंदोलन एवं संघर्ष से सीआईडी सीबी जांच हुई जिसमें जांच में तेजाराम निर्दोष  होकर जेल से बाहर दोषमुक्त होकर आया है.

शिव सेना मेवाड़ संभाग द्वारा संभाग की अनेकों तहसील व ज़िला मुख्यालय पर मुख्यमंत्री (Chief Minister) व डीजीपी के नाम ज्ञापन देकर मांग की गई, उसी में उदयपुर (Udaipur) एडीएम प्रशासन के मार्फत डीजीपी के नाम ज्ञापन दिया गया जिसमें बताया कि तेजाराम को झूठा फंसाने वाले दोषी अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही लंबित है एवं तेजाराम को मुआवजा दिया जाए. इसमें तेजाराम संघर्ष समिति की ओर से शिव सेना मेवाड़ संभाग संरक्षक समर सिंह जी बुंदेला ने दोषी अधिकारियों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 166A, 120b, एनडीपीएस की धारा 58,59 के तहत

(1). श्रीमती बिनिता ठाकुर, पुलिस (Police) महानिरीक्षक हाल उदयपुर (Udaipur) रेंज

(2). मुकेश सांखला, अति.पुलिस (Police) अधीक्षक, ग्रामीण जिला उदयपुर (Udaipur)

(3) कैलाश दान सांदु,  अति.पुलिस (Police) अधिक्षक बांसवाडा

(4) ब्रजेश सोनी, अति.पुलिस (Police) अधीक्षक बाली जिला पाली

(4). संजय सिह पुलिस (Police) उप अधिक्षक

(5). हितेश मेहता पुलिस (Police) उप अधिक्षक वल्लभनगर

(6). महीपाल‌ सिंह सिसोदिया पुलिस (Police) निरिक्षक हाल महिला थाना बांसवाडा

(7). गजसिंह सिसोदिया, पुलिस (Police) निरिक्षक उदयपुर (Udaipur)

के विरुद्ध परिवाद दर्ज करवाया है जो वर्तमान में डीजीपी कार्यालय में लंबित है जिसको दर्ज किया जावे.

अगर दोषी अधिकारियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर कड़ी कार्यवाही नहीं की जाती है तो आंदोलन किए जाएंगे.

ज्ञापन देने में ज़िला अध्यक्ष सुधीर शर्मा, युवा सेना जिलाध्यक्ष गौरव नागदा, विधि प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष मंजू सोलंकी, ज़िला उपाध्यक्ष गणेश वैष्णव, उदयसिंह सिसोदिया, सुरेश वागरी आदि मौजूद रहे. उसी क्रम में मावली में समर सिंह बुंदेला के नेतृत्व में तहसीलदार के मार्फत ज्ञापन दिया गया जिसने विक्रम सिंह चारण, रमेश चंद्र चोबिसा आदि मौजूद रहे.

Please share this news