Thursday , 13 May 2021

राजस्थान और गुजरात में पतंगबाजी के दौरान हुई 4 लोगों की मौत

मांझे से 2 लोगों की गर्दन कटी, कोई कार से टकराया तो कोई छत से गिरा

जयपुर (jaipur) . देश में मकर संक्रांति पर्व पर कहीं पतंग लूटने और काटने के चक्कर में किसी की जान चली गई तो कोई मांझे धागे में फंसकर जान गवां बैठा. गुजरात (Gujarat) और राजस्थान (Rajasthan)में मकर संक्रांति के दिन चार लोगों को मौत हो गई. दो लोगों की मौत चायनीज मांझे से गर्दन कटने से हुई. गुजरात (Gujarat) के सूरत (Surat) शहर के संग्रामपुरा में एक इमारत की छत पर 10 साल का अक्षय राजूभाई पतंग उड़ा रहा था. इसी दौरान पतंग लूटने के चक्कर में छत से गिर गया. उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसकी मौत हो गई.

अहमदाबाद (Ahmedabad) में एक आठ साल का बच्चा पतंग लूटने के चक्कर में कार से टकरा गया. जिसके बाद उसे अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराना पड़ा.इसके अलावा वस्त्राल में बाइक से गुजर रहे 55 वर्षीय कन्हैयालाल पटेल का गला मांझे से कट गया, जिसके बाद उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया. गुजरात (Gujarat) के ही भरूच में पीपलिया गांव में रहने वाले महेंद्र परमार (26) बाइक से भरूच आ रहे थे. रहाडपोर गांव के पास अचानक एक पतंग के मांझे से उनका गला कट गया. गांव वालों ने 108 एंबुलेंस (Ambulances) से महेंद्र को अस्पताल पहुंचाया, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी.

राजस्थान (Rajasthan)के उदयपुर (Udaipur) में खेरवाड़ा में चाइनीज मांझे से कटकर युवक की मौत हो गई. लक्ष्य नाम का एक युवक बाइक से जा रहा था, तभी उसके गले में मांझा फंस गया. उसकी गर्दन बुरी तरह कट गई. ज्यादा खून बह जाने से लक्ष्य की मौके पर ही मौत हो गई. राज्य के कई शहरों में मांझे से करीब 20 लोग घायल हो गए हैं. कई जगहों पर पक्षियों के भी शव मिले हैं. राजस्थान (Rajasthan)के कोटा में करम बैरवा (14) रेल की पटरी पर पतंग लूटने के लिए दौड़ रहा था, तभी वह ट्रेन से टकरा गया. ज्यादा खून बह जाने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई.

Please share this news