Friday , 14 May 2021

न्यारी-2 जलाशय से 200 MCFT पानी सिंचाई के लिए किसानों को दिया जाएगा


अहमदाबाद (Ahmedabad) . मुख्यमंत्री (Chief Minister) विजय रूपाणी ने निर्णायक नेतृत्व के अनोखे दृष्टिकोण की प्रतीति कराते हुए राजकोट (Rajkot) जिले की न्यारी-2 सिंचाई योजना के पानी का लाभ अतिरिक्त 157 हेक्टेयर क्षेत्र को मुहैया कराने का किसान हितैषी निर्णय किया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) के इस निर्णय के परिणामस्वरूप राजकोट (Rajkot) जिले के मेटोड़ा, सरपदड़ और बोडीघोड़ी गांवों के न्यारी योजना के कमांड क्षेत्र से बाहर के जो किसान सिंचाई सुविधा से वंचित रह गए थे, उन्हें अब न्यारी-2 योजना के तहत 200 मिलियन क्यूबिक फीट (एमसीएफटी) पानी सिंचाई की सुविधा के लिए उपलब्ध होगा.

रूपाणी द्वारा इस क्षेत्र के किसानों की सिंचाई के पानी की बरसों पुरानी समस्या का निवारण करने से न्यारी-2 जलाशय में राजकोट (Rajkot) महानगर पालिका के लिए आरक्षित रखा जाने वाला 200 एमसीएफटी पानी अब किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मुहैया कराने के मकसद से देने के लिए यह संवेदनशील निर्णय किया है. उल्लेखनीय है कि राजकोट (Rajkot) जिले की पड़धरी तहसील के रंगपर के पास 1986 में न्यारी नदी पर निर्मित इस न्यारी-2 योजना की कुल संग्रहण क्षमता 432 मिलियन क्यूबिक फीट है और इस योजना के माध्यम से नहरों के मार्फत 1390 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई का आयोजन किया गया है.

मौजूदा स्थिति में न्यारी-2 सिंचाई योजना के कमांड क्षेत्र के मेटोड़ा, रंगपर, सरपदड़, बोडीघोड़ी, पाटी-रामपर तथा वणपरी सहित कुल 6 गांवों के 1095 हेक्टेयर क्षेत्र को सिंचाई का लाभ मिलता है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) विजय रूपाणी ने अब अतिरिक्त 157 हेक्टेयर क्षेत्र को न्यारी-2 सिंचाई योजना में से सिंचाई के लिए पानी देने के लिए जो संवेदनशील निर्णय किया है उससे किसानों के खेत उत्पादन में वृद्धि होगी और राष्ट्रीय उत्पादन में बढ़ोतरी होने से किसानों की आय दोगुनी करने का उम्दा उद्देश्य पूरा होगा.

Please share this news