Thursday , 13 May 2021

भारत से छू मंतर हो रहा कोरोना 24 घंटों में सामने आए केवल 10,064 नए केस

नई दिल्ली (New Delhi) . कोरोना को लेकर देश और दुनिया साल भर परेशान हैं. हालांकि दैनिक मामलों में कमी आई है और वैक्सीन आने से भी राहत दिखाई पड़ रही है. भारत में केंद्रीय मंत्रालय के रूप में पिछले 24 घंटों में केवल 10,064 नए कोविड-19 (Covid-19) मामले सामने आए हैं. यह अब तक का सबसे कम दैनिक आंकड़ा है. बीते 24 घंटों में 17,411 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज हुए हैं जबकि 137 लोगों ने जान गंवाई है. वहीं कुल मामलों की बात करें तो देश में अब तक 1,05,81,837 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. सक्रिय मामले 2,00,528 पर हैं और 1,02,28,753 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं.

इसके अलावा मरने वालों की कुल संख्या 1,52,556 है. इधर, देश में कोरोना (Corona virus) के खिलाफ टीकाकरण अभियान शनिवार (Saturday) सुबह से शुरू हो गया. देश में दो कंपनियों के टीकों को पिछले दिनों मंजूरी दी गई थी. डीसीजीआई ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को इमरजेंसी (Emergency) इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है. भारत में आज से शुरू हुए कोरोना टीकाकरण में हेल्थ वर्कर्स को टीका लगाया जा रहा है. आज तीन लाख हेल्थ वर्कर्स को टीका लगाया जाना है. दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत शनिवार (Saturday) सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने की है.

वहीं, बुजुर्ग लोगों का टीकाकरण हो जाने के बाद देश के अन्य लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी. 16 जनवरी से टीकाकरण शुरु होने के बाद कांग्रेस सांसद (Member of parliament) और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी (Manish Tiwari) ने कोरोना टीकाकरण पर सवाल खड़े किए. उन्होंने भारत बायोटेक के टीके पर कहा कि कई प्रख्यात डॉक्टरों (Doctors) ने सरकार के सामने कोवैक्सीन के प्रभावी और सुरक्षा के संबंध में सवाल खड़े किए हैं और कहा है कि वे नहीं चुन सकेंगे कि उन्हें कौन सी वैक्सीन लेनी है. यह सहमति के पूरे सिद्धांत के खिलाफ जाता है. तिवारी ने आगे कहा कि कोवैक्सीन की अलग ही कहानी है. उसे उचित प्रक्रिया के बिना मंजूरी दी गई है.

Please share this news