Friday , 26 February 2021

पीड़ित परिवार से मिलने पहुंची टीएमसी महिला सांसदों से अभद्रता, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के खिलाफ शिकायत


हाथरस . उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस में गैंगरेप (Gangrape) पीड़िता की मौत के बाद उसके परिवार से मिलने को लेकर राजनीतिक दलों और जिला प्रशासन के बीच ठनी हुई है. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के चार सांसद (Member of parliament) हाथरस पहुंचे और यहां उन्होंने पीड़िता के परिवार से गांव में मिलने की कोशिश की. इस दौरान भारी संख्या में तैनात पुलिस (Police) और प्रशासन की टीमों ने उन्हें गांव में प्रवेश कर पीड़िता के परिवार से मिलने की अनुमति नहीं दी. इस मसले पर सांसद (Member of parliament) और प्रशासनिक अफसरों के बीच काफी देर तक झड़प हुई.

पीड़ित परिवार से मिलने पहुंची प्रतिभा मंडल और टीएमसी की अन्य महिला सांसदों ने थाने में शिकायत दर्ज कराई कि बूलगढ़ी गांव में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने उनके साथ अभद्रता की और उन्हें धक्का मारकर भागने का प्रयास किया. टीएमसी की सांसद (Member of parliament) प्रतिभा मंडल ने बताया कि हम सभी लोग गांव में पीड़ित परिवार से मिलने उनके गांव पहुंचे थे.

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट द्वारा महिला सांसद (Member of parliament) प्रतिभा मंडल, पूर्व सासंद ममता ठाकुर को धक्का देकर भागने और अभद्रता करने का आरोप लगाया है. टीएमसी की महिला सांसदों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा के खिलाफ कोतवाली चंदपा में एएसपी हाथरस प्रकाश कुमार को लिखित शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की है. उधर पीड़ित परिवार लगातार तीन दिन से अपने गांव में बंधक बताया जाता है. पूरे गांव को प्रशासन और पुलिस (Police) ने लगातार सील किया हुआ है.

मीडिया (Media) कर्मियों के साथ ही गांव में किसी को प्रवेश की इजाजत नहीं दी जा रही है. योगी सरकार (Government) द्वारा एसपी सहित पुलिस (Police)कर्मियों पर कार्रवाई की गई, लेकिन पीड़ित परिवार संतुष्ट नहीं है. 3 दिन से परिवार नजरबंद है और सरकार (Government) द्वारा डीएम पर कार्रवाई नहीं होने से परिजनों में आक्रोश है. बता दें शुक्रवार (Friday) को डीएम प्रवीण लक्षकार पर पीड़ित परिवार से मारपीट करने और मोबाइल छीनने का आरोप लगा था.

Please share this news