Saturday , 15 May 2021

नंदीग्राम में TMC की रैली से पहले लगाए गए ‘ममता बनर्जी गो बैक’ के पोस्टर

नंदीग्राम . पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) से पहले राज्य में राजनीतिक पारा चढ़ गया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ममता बनर्जी जिस नंदीग्राम में आंदोलन कर सत्ता की कुर्सी पर बैठी थीं, वहीं से उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. नंदीग्राम में ममता की जनसभा से पहले ‘ममता बनर्जी गो बैक’ के पोस्टर लगा दिए गए. स्थानीय लोगों का आरोप है कि ममता बनर्जी ने सत्ता में आने के बाद से नंदीग्राम के लिए कुछ नहीं किया.

पश्चिम बंगाल (West Bengal) के चुनाव को देखते हुए राज्य की मुख्यमंत्री (Chief Minister) इन दिनों प्रदेशभर में रैलियां कर रही हैं. सोमवार (Monday) को नंदीग्राम में ममता बनर्जी की मेगा रैली का आयोजन किया गया. यहीं से आंदोलन करके ममता सत्ता तक पहुंची थीं, लेकिन ममता के करीबी रहे और नंदीग्राम आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले शुभेंदु अधिकारी अब भाजपा में हैं. नंदीग्राम दोनों ही दलों के लिए ख़ास है. शुभेंदु नंदीग्राम को अपना गढ़ बताते रहे हैं.

ममता की रैली से पहले नंदीग्राम में ‘गो बैक ममता’ के पोस्टर लगाने के बाद यहां पर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है. स्थानीय लोगों का कहना है कि जिस नंदीग्राम ने ममता बनर्जी को राज्य का मुख्यमंत्री (Chief Minister) बना दिया उसके लिए ममता सरकार ने कोई काम नहीं किया है. उधर, शुभेंदु ने भी ममता बनर्जी के गढ़ दक्षिण कोलकाता (Kolkata) में रैली करके सियासी तापमान बढ़ा दिया है.

Please share this news