Wednesday , 23 June 2021

दो सौ से अधिक श्रमदानियों ने खोदी खंतियाँ

बैतूल /नवल-वर्मा. बैतूल की सोना (Gold)घाटी को हरी-भरी करने के उद्देश्य से प्रारम्भ हुआ गंगावतरण अभियान-5 का सोमवार (Monday) विश्व जल दिवस पर दो सौ से अधिक श्रमदानियों ने खंतियाँ खोदकर इस वर्ष की शुरुआत की.
जिले के 83 ग्रामों के जल शक्ति टोली के प्रतिनिधियों और बैतूल नगर व आसपास के श्रमदानियों ने प्रात: 2 घण्टे श्रमदान कर पुरानी जल संरचनाओं को स्वच्छ किया तथा नई जल संरचनाओं का निर्माण किया. पौधों में क्यारियाँ बनाई व जल संरक्षण के लिए सामुहिक रूप से संकल्प लिया.श्रमदान के बाद टोली के सदस्यों को संबोधित करते हुए गंगावतरण अभियान के संयोजक मोहन नागर ने जल के महत्व के बारे में कहा कि हमें जल के रूप में प्रकृति के द्वारा दिये गये उपहार को सहेजना होगा.

भारत भारती में आयोजित कार्यशाला से हमने जल संरक्षण के उपायों के बारे में जाना. नागर ने जलशक्ति टोली के कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे अपने-अपने ग्रामों में जाकर लोगों को प्रेरित करें कि बोरी बंधान, मेढ़ बंधान, तालाबों की उचित देख-देख, पहाड़ीनुमा स्थानों पर खंती बनाकर जल का संरक्षण करें. जल की उपलब्धता से हमारी यह पीढ़ी तो सुदृढ़ होगी ही, बल्कि आने वाली पीढी भी हमारे द्वारा किये गये पर्यावरण और जल संरक्षण के प्रयासों से फलेगी और फूलेगी.

सत्य सांई सेवा समिति के संजीव शर्मा ने जल संरक्षण के अन्तर्गत गंगावतरण अभियान के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि ये भागीरथी प्रयास है. उन्होंने जलशक्ति टोली के प्रत्येक सदस्य को देवदूत कहते हुए बताया कि जल ईश्वर की देन है और इसे बचाने वाले देवदूत आप स्वयं हैं. रामसेतु निर्माण में गिलहरी के योगदान को महत्वपूर्ण बताते हुए शर्मा ने कहा कि हमारा यही छोटा सा प्रयास आने वाली पीढ़ी को जलसंकट से उबार सकता है.

इस अवसर पर विद्या भारती जनजाति शिक्षा के राष्ट्रीय सह संयोजक बुधपाल सिंह ठाकुर, सत्य साईं सेवा समिति के संजीव शर्मा, विनायक शिशु मन्दिर के मोती लाल कुशवाह, भारत भारती के प्राचार्य गोविन्द कारपेंटर, प्रधानाचार्य राजेश पाटिल, भारत भारती आईटीआई के प्राचार्य विकास विश्वास, तरुण भारती के आशीष अलोने, अभय श्रीवास्तव, राजेश भदौरिया, जनजाति शिक्षा के जिला प्रमुख नागोराव सिरसाम, राजेश वर्टी सहित दो सौ से अधिक श्रमदानियों ने श्रमदान किया.

विद्या भारती जनजाति शिक्षा द्वार जिले भर में चलाए जा रहे जल संरक्षण अभियान में कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करने के लिए भारत भारती में दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई है. जिसमें जिले के 83 ग्रामों के कार्यकर्ता प्रशिक्षण ले रहे हैं.

Please share this news