Friday , 14 May 2021

दिल्ली- मेट्रो स्टेशन पर अचानक बेहोश हुए यात्री को सीआईएसएफ जवान ने कृत्रिम सांस देकर दी नई जिंदगी

नई दिल्ली (New Delhi) . केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के एक आरक्षक इंसानियत का धर्म निभाते हुए अपनी समझदारी से दिल्ली में मेट्रो स्टेशन पर बेहोश होकर गिरे एक यात्री को नई जिंदगी प्रदान की. घटना का सीसीटीवी फुटेज सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि शख्‍स अचानक कांपने लगा और फिर जमीन पर गिर गया. इसके बाद मौके पर मौजूद विकास नाम के आकक्षक ने सीपीआर देकर जान बचाई. सीआईएसएफ की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि गिरने से व्‍यक्ति के चेहरे और मुंह में चोट आई है, हालांकि अब वह पूरी तरह ठीक है और होश में आने के बाद जवानों का आभार जताया.

सीआईएसएफ ने बताया, ‘आरक्षक विकास ने जब देखा कि यह यात्री बेहोश हो गया और मुंह के बल गिरने के कारण ठीक से सांस भी नहीं ले पा रहा तो उसने देर किए बगैर इस यात्री को कृत्रिम तरीके से सांस (सीपीआर) देनी शुरू कर दी और शख्‍स को होश आ गया.’ बेहोश हुए यात्री की पहचान दिल्ली के जनकपुरी के रहने वाले सत्‍यनारायण के रूप में हुई है. घटना के बाद शख्‍स को अतिरिक्‍त चिकित्‍सा सहायता उपलब्‍ध कराई गई और दिल्‍ली मेट्रो रेल पुलिस (Police) व एंबुलेस भी बुलाई गई, लेकिन इस व्‍यक्ति ने अस्‍पताल जाने से इनकार कर दिया. कार्डियोपलमोनरी रिससिटेशन यानी सीपीआर एक आपातकाली स्थिति में प्रयोग होने वाली प्रक्रिया है, जो किसी व्यक्ति के सांस रुक जाने की स्थिति में इस्तेमाल की जाती है. इसमें बेहोश व्यक्ति को कृत्रिम रूप से सांसें दी जाती हैं, जिससे फेफड़ों को ऑक्सीजन मिलती है. इस प्रक्रिया में सांस वापस आने तक या दिल की धड़कन सामान्य होने तक छाती को दबाया जाता है, जिससे शरीर में पहले से मौजूद ऑक्सीजन वाला खून संचारित होता रहता है.

Please share this news