Tuesday , 9 March 2021

खूंटी में अवैध संबंधों की वजह से हुई थी पत्रकार के बेटे की हत्या

खूंटी . पत्रकार के बेटे की हत्या (Murder) में पुलिस (Police) ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. यह हत्या (Murder) झारखंड स्थित खूंटी के कर्रा में हुई थी. पुलिस (Police) का दावा है कि अवैध संबंधों की वजह से हत्या (Murder) हुई है. इस हत्या (Murder) कांड में मृतक की चाची और उनके नौकर का हाथ है. खूंटी के एसपी आशुतोष शेखर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि पत्रकार के बेटे संकेत मिश्रा की हत्या (Murder) उसकी सगी चाची और चाची के नौकर बिरसा हेम्ब्रम ने की थी. इन दोनों को छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जशपुर से गिरफ्तार कर लिया गया है. संकेत मिश्रा का अवैध संबंध अपनी सगी चाची से था. चाची ने नौकर बिरसा हेम्ब्रम से भी संबंध बना रखे थे. दोनों ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है.

पुलिस (Police) ने बताया कि 2017 में संकेत की शादी हो गई. इस वजह से वह अपनी चाची से कम मिलने लगा. इस बीच चाची ने अपने नौकर बिरसा हेम्ब्रम के साथ संबंध बना लिया, जिसकी भनक संकेत को लग गई. संकेत को बिरसा खटकने लगा और लड़ाई झगड़ा करने लगा. संकेत पर अपने परिवार और काम को भी देखने की जिम्मेवारी थी, इसलिए वह चाची को समय नहीं दे पा रहा था. तब चाची ने 5 जनवरी को पिकनिक मनाने के बहाने संकेत को कर्रा के प्रेम घाघ बुलाया.

जब संकेत चाची के पास पहुंचा, उस वक्त बिरसा घर का सामान लाने के लिए बाहर गया हुआ था. लौटने पर उसने देखा कि चाची और संकेत के बीच हाथापाई हो रही है. बीच-बचाव करने पर संकेत घर के नौकर से उलझ गया और दोनों में जमकर मारपीट होने लगी. इसी बीच संकेत भागने लगा और नौकर ने उसका पीछा किया. रास्ते में गाय चराने वाली महिला दिखी. उसके हाथ से दाउली (एक तरह का धारदार हथियार) बिरसा ने छीन ली और संकेत की गर्दन पर वार कर दिया. घटनास्थल पर ही संकेत की मौत हो गई. तब बिरसा ने अपनी मोटर साइकिल से पेट्रोल (Petrol) निकालकर अपने ही जैकेट को भिंगा लिया और आग लगा दी और शव जला दिया. 7 जनवरी को पुलिस (Police) को जला हुआ शव मिला था, जिसकी शिनाख्त स्थानीय पत्रकार अनिल मिश्रा के बेटे के रूप में हुई थी.

Please share this news