Thursday , 25 February 2021

कोरोना को लेकर बढती जा रही प्रशासनिक लापरवाही, नहीं हो रही कांटेक्ट ट्रेसिंग ना ही सैंपलिंग


भोपाल (Bhopal) . राजधानी में जैसे-जैसे कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं, वैसे-वैसे प्रशासनिक लापरवाही भी बढ़ती जा रही है. नियमों के अनुसार पॉजिटिव आने वाले मरीज का घर सैनिटाइज कर इनके परिवार के सदस्यों के भी सैंपल लिए जाने चाहिए ताकि उनमें कोरोना के लक्षण विकसित होने से पहले ही पहचान हो जाए. इसके बावजूद इस नियम का पालन नहीं किया जा रहा है. राजधानी में पॉजिटिव आने वाले मरीजों के घर को ना तो सैनिटाइज किया जा रहा है और ना ही उनके परिवार के लोगों का सैंपल लेने टीम घर पहुंच रही है.

यही कारण है कि घर का एक सदस्य कोरोना पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में तो भर्ती हो जा रहा है, लेकिन उस घर के अन्य सदस्य बाजार में घूम रहे हैं और कोरोना का संक्रमण फैला रहे हैं. इतना ही नहीं प्रशासन ने पॉजिटिव मरीजों का बढ़ता हुआ आंकड़ा देखकर सैंपलिंग करना भी कम कर दिया है. सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि वह अब सैंपलिंग नहीं कराएंगे. जिस परिवार का सदस्य पॉजिटिव आता है उनके परिवार के लोग फीवर क्लीनिक या सैंपल कलेक्शन सेंटर में जाकर सैंपल देंगे. यही कारण है कि राजधानी में तेजी से कोरोना का संक्रमण फैल रहा है. इसका खुलासा तब हुआ जब पॉजिटिव मिले मरीजों से सैंपलिंग और सैनिटाइजेशन की जानकारी ली. कई लोगों ने बताया कि उनके घर में किसी भी सदस्य का सैंपल नहीं लिया गया है. वहीं सभी ने यह भी कहा कि नगर निगम का कोई कर्मचारी सैनिटाइजेशन के लिए घर नहीं पहुंच रहा है.

कोरोना की संक्रमण दर लगातार बढ़ती जा रही है. एक सप्ताह पहले जहां 2100 सैंपल लिए जा रहे थे. वहीं अब 1700 सैंपल लिए जा रहे हैं. पहले जहां संक्रमण दर 12 प्रतिशत थी वहीं अब 14 और 13 प्रतिशत पर पहुंच गई है. इस बारे में कलेक्टर (Collector) अविनाश लवानिया का कहना है ‎कि हम सैंपलिंग के लिए नई व्यवस्था बना रहे है. फिर से कैंप लगाकर सैंपलिंग की जाएगी, ताकि संक्रमण का जल्दी से जल्दी पता लगाया जा सके. फीवर क्लीनिक को और अपडेट कर यहां मलेरिया और डेंगू की भी किट रखवाई जा रही है.

Please share this news