Thursday , 13 May 2021

कोरोना के एक दिन में सबसे कम 10,064 नए मामले

नई दिल्ली (New Delhi) . भारत में बीते सात महीने से अधिक समय में कोरोना के एक दिन में सबसे कम 10,064 नए मामले सामने आए जिसके साथ संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,05,81,837 पर पहुंच गए. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक मंगलवार (Tuesday) को संक्रमण मुक्त होने वाले लोगों की कुल संख्या 1,02,28,753 हो गई. मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में 137 लोगों की मौत होने से मृतक संख्या बढ़कर 1,52,556 पर पहुंच गई. संक्रमण से एक दिन में मरने वालों की संख्या भी बीते करीब आठ महीने में सबसे कम है. इसमें बताया गया कि संक्रमणमुक्त होने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ी है और यह 1,02,28,753 है. इसके साथ ठीक होने वालों की राष्ट्रीय दर 96.66 फीसदी हो गई है.

वहीं, संक्रमण से मृत्यु दर 1.44 फीसदी है. देश में कोविड-19 (Covid-19) का इलाज करा रहे लोगों की संख्या तीन लाख से कम बनी हुई है. वर्तमान में 2,00,528 संक्रमितों का इलाज चल रहा है जो संक्रमण के कुल मामलों का 1.90 फीसदी है. भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख के पार चली गई थी. वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख के पार, 28 सितम्बर को 60 लाख के पार, 11 अक्टूबर को 70 लाख से अधिक, 29 अक्टूबर को 80 लाख से अधिक और 20 नवम्बर को 90 लाख से अधिक हो गए थे. कुल मामले 19 दिसम्बर को एक करोड़ से अधिक हो गए थे.

भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार देश में 18 जनवरी तक कुल 18,78,02,827 नमूनों की कोविड-19 (Covid-19) संबंधी जांच की गई. उनमें से 7,09,791नमूनों की जांच सोमवार (Monday) को की गई. जिन 137 लोगों की संक्रमण के कारण मौत हुई उनमें से 35 महाराष्ट्र (Maharashtra) से, 17 केरल (Kerala) से, 10 पश्चिम बंगाल (West Bengal) से, नौ कर्नाटक (Karnataka) से, आठ-आठ संक्रमित दिल्ली और तमिलनाडु (Tamil Nadu) से हैं. अब तक देश में कुल 1,52,556 लोगों की मौत हुई है जिनमें से 50,473 महाराष्ट्र (Maharashtra) से, 12,272 तमिलनाडु (Tamil Nadu) से, 12,175 कर्नाटक (Karnataka) से, 10,754 दिल्ली से, 10,063 पश्चिम बंगाल (West Bengal) से, 8,580 उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से, 7,141 आंध्र प्रदेश (Andra Pradesh)से और 5,509 मृतक पंजाब (Punjab) से हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक जिन लोगों की मौत हुई, उनमें से 70 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं.

Please share this news