Saturday , 8 May 2021

ऑनलाइन बिल जमा करने में दिलचस्पी नहीं

अशोकनगर . बिजली विभाग की घर बैठे ऑन लाइन बिल जमा करने की सुविधा हो या फिर मोबाइल फोन पर बिल जारी तथा भुगतान होने की एसएमएस सुविधा, इनके प्रति उपभोक्ता रुचि नहीं दिखा रहे हैं. स्थिति यह है कि दो हजार उपभोक्ता ही ऑनलाइन बिजली का बिल जमा कर रहे हैं तो एक तिहाई उपभोक्ता एसएमएस सुविधा से जुड़े हैं. बिजली विभाग ने शहरी विद्युत वितरण मंडल के उपभोक्ताओं को घर बैठे बिजली का बिल जमा करने की सुविधा शुरू की थी. मकसद था कि बिजली उपभोक्ता को अपना बिल जमा करने के लिए बिजली घर तक दौड़ न लगानी पड़े तथा घंटों लाइन में लगने से वह बच सके. विभाग के आंकड़े गवाह हैं कि शहर में बिजली के जितने कनेक्शन हैं, उनमें से 50 प्रतिशत उपभोक्ता भी ऑनलाइन बिजली का बिल जमा नहीं कर रहे हैं.

ग्रामीण क्षेत्रो के उपभोक्ता नहीं ले पाते लाभ:

ऑनलाइन बिजली बिल जमा करने में उपभोक्ता और विभाग दोनो को ही लाभ है इससे समय वचता है और सुविधा भी मिलती है. परन्तु ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ता ऑनलाइन बिजली बिल जमा करने से अब कन्नी काटने लगे हैं. उपभोक्ताओं के मुताबिक ऑनलाइन बिजली बिल जमा करने पर भी बिल जमा नहीं हो पाते हैं. जबकि विद्युत अधिकारियों के मुताविक उपभोक्ताओं को दो श्रेणियों में बांटा गया है. जिसमें ग्रामीण उपभोक्ताओं को आरसीएफ श्रेणी में रखा गया है. इस कारण इन उपभोक्ताओं द्वारा जमा बिल सीधा भोपाल (Bhopal) कार्यालय में जमा होता है. इसके बाद वहां से सूचना मिलने पर यह राशि बिजली बिल में जमा की जाती है. लेकिन इसमें कई बार एक से दो माह तक का समय लग जाता है. जिससे उपभोक्ता परेशान होते हैं यही कारण है कि उपभोक्ताओं ने ऑनलाइन बिजली बिल जमा कराने से लगभग किनारा कर लिया है.

ऑनलाइन भुगतान के फायदे:

बिल काउंटर पर घंटों कतार में लगने की असुविधा से मुक्ति.
कतार में लगने वाले समय की बचत.
बिल का भुगतान होने पर मोबाइल पर मैसेज आता है.
गलतियों की गुंजाइश कम रहती है.

Please share this news